Home Kanpur News First Plastic Road To Be Built In Kanpur

गुरुग्राम: बिहार के मोतिहारी का खूंखार मोस्टवांटेड बदमाश गिरफ्तार

आतंक का रास्ता छोड़ने वालों पर नहीं होगी कार्रवाई: DGP वैद

एक दिसंबर को रिलीज नहीं होगी फिल्म पद्मावती, निर्माताओं ने बढ़ाई तारीख

पश्चिम बंगाल: सिलीगुड़ी में 2 बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला, गंभीर रूप से घायल

उम्मीद है कि कश्मीर जल्द ही हिंसा मुक्त हो जाएगा: DGP वैद

कानपुर में बनेगी प्लास्टिक से पहली सड़क

Kanpur | 13-Nov-2017 13:05:48 | Posted by - Admin
   
First Plastic Road to be Built in Kanpur

दि राइजिंग न्‍यूज

कानपुर।

 

प्लास्टिक नगर निगम से लेकर लोगों तक जी का झंझाल बना हुआ है, लेकिन अब इसका उपयोग अब सड़क बनाने में किया जाएगा। हालांकि यह उपाय बहुत नया नहीं है, लेकिन उत्तर भारत में इसका प्रयोग पहली बार किया जाएगा। कानपुर में प्रयोग की हुई प्लास्टिक से एक किलोमीटर सड़क बनाने की योजना है।

प्लास्टिक से बनी सड़कें सस्ती होने के साथ अपेक्षाकृत ज्यादा सुरक्षित होंगी। प्लास्टिक कचरे का इस्तेमाल करके बनाई जाने वाली सड़कें मानसून के दौरान टिकाऊ होती हैं। इसके अलावा ये 50 डिग्री सेल्सियस तापमान पर भी नहीं पिघलती हैं।

 

 

एचबीटीयू (हरकोर्ट बटलर प्राविधिक विश्वविद्यालय) कानपुर के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर प्रदीप कुमार ने इस पर शोध किया है। एचबीटीयू में अगले साल से एमटेक में प्लास्टिक रोड टेक्नोलाजी पाठ्यक्रम शुरू किए जाने का प्रस्ताव है। अध्ययन में पाया गया है कि सड़क बनाने की सामग्री में करीब 15 फीसद हिस्सा प्लास्टिक कचरा होता है। प्रो. प्रदीप ने बताया कि सामान्य सड़कों (तारकोल व गिट्टी से बनी) की उम्र करीब 15 साल होती है। वहीं प्लास्टिक से बनी सड़कों की उम्र सामान्य सड़कों की तुलना में 25 फीसद अधिक होती है।

 

 

एक आकलन के अनुसार देश में प्रतिदिन करीब 15 हजार टन प्लास्टिक कचरा पैदा होता है। इसमें से करीब नौ हजार टन प्लास्टिक को री-साइकिल कर काम में ले लिया जाता है। बाकी हिस्सा कूड़े में पड़ा रहने के साथ नालियों को जाम करता है। प्लास्टिक से बनी सड़कों के लिए गिट्टी व तारकोल मिलाने के दो तरीके हैं। पहला गर्म गिट्टी के साथ प्लास्टिक को मिलाया जा सकता है। इसके अलावा तारकोल के साथ प्लास्टिक को मिलाकर बाद में गिट्टी मिलाई जा सकती है।

 

 

इस प्रक्रिया के अंतर्गत प्लास्टिक कचरे के छोटे-छोटे टुकड़े कर उन्हें गर्म डामर में मिलाया जाता है। इस मिश्रण को पत्थरों पर डाला जाता है। प्लास्टिक कचरे में पॉलीथिन, टॉफी-चॉकलेट के रैपर से लेकर शॉपिंग बैग तक शामिल होते हैं। पीडब्ल्यूडी शहर में प्लास्टिक की सड़क बनाने की योजना बना रहा है।

यह सड़क एक किलोमीटर की होगी। मालरोड में इसे बनाए जाने की योजना है। पिछले दिनों उत्तर प्रदेश सरकार ने पीडब्ल्यूडी से प्लास्टिक से सड़क बनाने के लिए कहा था। इस पर काम शुरू हो गया है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555



संबंधित खबरें



HTML Comment Box is loading comments...

Content is loading...




TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Photo Gallery
गोमती तट पर दीप आरती करती महिलाएं। फोटो- अभय वर्मा



Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news


sex education news