Amitabh Bachchan on Z Plus Securities to Politicians

दि राइजिंग न्‍यूज

कानपुर।

 

दीपावली पर इस बार इको फ्रेंडली पटाखे (कम प्रदूषण और कम आवाज वाले) लोगों की पसंद बने हुए हैं। पर्यावरण प्रदूषित न हो इस बात का ग्राहकों ने भी ध्यान रखा। लगातार एनजीटी और सुप्रीम कोर्ट के द्वारा वायु प्रदूषण को लेकर फटकार और जन जागरुकता के चलते इस बार कानपुर के पटाखा बाजार में पटाखा निर्माण करने वाली कंपनियों ने कम आवाज, कम धुंआ और वातावरण को कम नुकसान पहुंचाने वाले पटाखे निर्मित किए। लोग भी प्रदूषण के प्रति जागरूक होते हुए इन्हीं पटाखों की मांग ज्यादा कर रहे हैं।

कानपुर का प्रमुख थोक पटाखा बाजार फूलबाग में लगा हुआ है। इस  पटाखा बाजार से दीपावली के पर्व पर करोड़ों रुपये का व्यापार होता है लेकिन सुप्रीम कोर्ट में मामला होने की वजह से इन पटाखा कारोबारियों की सांसें अटकी हुई थीं। मगर, एससी से राहत मिलने के बाद इन पटाखा कारोबारियों के चेहरे खिल उठे हैं और इनकी मानें तो दो से तीन दिनों में कारोबार अच्छा रहने की उम्मीद है।

 

 

क्‍या बोले पटाखा एसोसिएशन के अध्यक्ष?

पटाखा एसोसिएशन के अध्यक्ष राजू शम्शी ने बताया कि कम प्रदूषण वालों में सोनी कंपनी, ईगल कंपनी और फायरफॉक्स जैसी कंपनियों ने अच्छी आतिशबाजी के कई प्रोडक्ट मार्केट में उतारे हैं। फिलहाल, मार्केट की स्थिति डाउन है। आसमानी आइटम भी पसंद किए जा रहे हैं।

वहीं, दुकानदार अब्दुल्ला ने बताया कि पहले से मार्केट में काफी फर्क आया है। पिछले साल से इस साल मार्किट में कस्टमर काफी कम हैं। लोग ज्यादातर फैंसी फायर,  स्काई शॉट के लिए आते हैं। पिछले साल की अपेक्षा इस बार कंपनी ने प्रदूषण को देखते हुए काफी बदलाव किया, जिसमें आवाज़ ज्यादा होती थी। मगर, इस बार इनकी आवाज कम है और धुंआ भी कम होगा। प्रदूषण को दिमाग में रखते हुए ग्राहक पटाखे खरीद रहे हैं।

 

 

वहीं, ग्राहक मोनिका की मानें तो वह भी वातावरण को ध्यान में रखते हुए कम प्रदूषण फैलाने वाले पटाखे ही ले रही हैं। रोशनी अच्छी हो ग्रीनरी हो ऐसे पटाखे खरीद रहे हैं।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement