Home Kanpur News Bollywood Actor Arun Bakshi Reached A Program In Kanpur

पाकिस्तान ने ईद की छुट्टियों के दौरान भारतीय फिल्मों के प्रसारण पर रोक लगाई

मुजफ्फरनगरः दूध पिलाती मां और बेटी को सांप ने काटा, दोनों की मौत

कर्नाटकः विधानसभा पहुंचे प्रोटेम स्पीकर

कर्नाटकः पुलिस कमिश्नर भी विधानसभा पहुंचे, अंदर भारी सुरक्षा व्यवस्था

कनाडाः भारतीय रेस्तरां में धमाका, CCTV फुटेज में दिखे 2 संदिग्ध

"अच्‍छा कलाकार बनने के लिए थिएटर करना बहुत जरूरी"

Kanpur | Last Updated : May 09, 2018 10:19 PM IST
  • कानपुर पहुंचे फेमस सिंगर व एक्‍टर अरुण बक्‍शी

Bollywood Actor Arun Bakshi Reached a Program in Kanpur


दि राइजिंग न्‍यूज

कानपुर।

 

90 के दशक में “तुन्ना तुन्ना ता ता तुन्ना” व “दुनिया की ठा ठा ठा” जैसे सुपरहिट गाना गाने वाले मशहूर सिंगर व एक्‍टर अरुण बक्शी एक निजी कार्यक्रम में कानपुर पहुंचे। इस दौरान वह मीडिया से रूबरू भी हुए। कार्यक्रम में अरुण बक्‍शी ने कहा कि प्रदीप के कहने पर कानपुर आना हुआ है। प्रदीप एक बहुत ही अच्छे इंसान हैं और एक बेहतरीन कलाकार हैं। आज के दौर में ऐसा कलाकार बहुत कम ही देखने को मिलता है जो अपने काम को लेकर लगातार प्रयत्नशील रहता है और अपने बड़े बुजुर्गों का सम्मान करता है।

कलाकार बनने के थिएटर करना जरूरी

एक्टर अरुण बख्शी ने बताया कि कानपुर शहर से काफी लगाव है। यहां कई सालों से आ रहा हूं। यहां बहुत मोहब्बत मिलती है। लुधियाना से बम्बई का सफर न जाने कैसे बीत गया पता ही नहीं चला। आइपीटीए से ताल्लुक रखने वाले अरुण ने बताया कि अगर आज आपको एक अच्छा कलाकार बनना है तो उसके लिए थिएटर करना बहुत जरूरी है। आज की जनरेशन को थिएटर करना चाहिए, जिससे आगे के रास्ते खुल सकें और वह और अच्छा निखर सकें।

 

आज के गानों से शिकायत

उन्होंने कहा कि पहले के दशक में गाना गाने पर 50 रुपये एक रिकार्डिंग के मिलते थे और उस वक्त वह 50 रुपये बहुत ही सुखद अनुभूति प्रदान करते थे। आज अच्छे गानों की संख्या बहुत कम हो गयी है। आज के जो गाने गाए जाते हैं उनमें तलफ़्फ़ुज़ बहुत खराब हो गया है, क्योंकि आज के गानों से नुक़्ते गायब हो चुके हैं। मुझे लगता है कि जैसे नुक्तों का खून हो रहा है। बिना नुक्तों के गानों का आधार नहीं है। म्यूजिक कम्पोज़र को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

उन्होंने अपने फिल्मी सफर को बताते हुए कहा कि 80 के दशक में थियटर से जुड़े और रेडियो व कई धारावाहिकों में भी काम किया जिसमें बीआर चोपड़ा की महाभारत भी थी जिसमें वह द्रोपदी के भाई द्रष्टद्युम की भूमिका निभा रहे थे।

अरुण ने बताया कि 90 का दशक का तो मानो पता ही नहीं चला। उस दरमियां करीब 300 गाने गाए और 100 से ज्यादा फिल्में भी कीं। जिनमें अरुण का पहला सुपर-डुपर हिट गाना अधर्म मूवी का “तुन्ना तुन्ना ता ता तुन्ना” से उन्हें काफी लोकप्रियता मिली। इस गाने से फिल्म भी काफी हिट हुई। फिर उसके बाद प्लेटफॉर्म फिल्म का गाना “दुनिया की ठा ठा ठा” जैसे कई गानों में उन्होंने अपना लोहा मनवाया।

दो गाने अभी शूट करूंगा

उन्‍होंने बताया कि अक्षय कुमार की फिल्म जय किशन झूले झूले लाल दा मस्त कलंदर गाना भी गाया, जिसमें अक्षय कुमार ने मुझे ये गाना गाने के लिए मोटिवेट किया था। अजनबी मूवी का गाना फटेला जेब सिल जाएगा भी उनके द्वारा गाया गया। उन्होंने बताया कि मैंने कोई म्यूजिक नहीं बनाया, अच्छे लोगों को सुनकर ही आगे बढ़ा हूं। अभी मैं 14 तारीख को दो गाने “बरसन लागी सावन बुंदिया” और दूसरा पंजाबी गाना “रब खैर करेगा” शूट करूंगा और इसे नेचुरल तरह से ही आगे ले जाऊंगा। हर व्यक्ति का गॉड फादर होता है मेरा तो गॉड ही फादर है।



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...