Rajashree Production Declared New Project After Three Years of Prem Ratan Dhan Payo

दि राइजिंग न्यूज़

कानपुर।

 

कानपुर वुलन मिल चलाने को लेकर लंबे समय से कवायद जारी है। फिलहाल महीनों बाद कर्मचारियों को वेतन मिलता है। लोकसभा और विधानसभा चुनावों में भी मिल चलाने का मुद्दा जोरशोर से उठा था। सूत्रों के अनुसार, बदले राजनीतिक माहौल में दिल्ली में उच्च स्तर पर इस मिल को चलाने के लिए बातचीत जारी है। इसके पीछे तर्क यह दिया जा रहा है कि मिल चलने पर कानपुर से जुड़े काफी बड़े इलाके में कमजोर वर्ग के लोगों में सकारात्मक संदेश जाएगा।

 

मोटे तौर पर लाल इमली और पंजाब की धारीवाल मिल को चलाने के लिए करीब 200 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है। इसे “राहत पैकेज” का नाम दिया जाएगा। जानकारों का कहना है कि कर्मचारियों के वेतन और छुट्टियों के बकाए के अलावा ब्याज आदि चुकाने समेत 100-125 करोड़ रुपये कर्ज चुकाने में चले जाएंगे। बची हुई रकम मिलों में लगाई जाएगी।

नए अफसरों की तैनाती

 

सूत्रों के अनुसार, बीते दिनों डीजीएम यूसी शुक्ला को ब्रिटिश इंडिया कॉरपोरेशन (बीआइसी) का चार्ज दिया गया है। कार्मिक और नियुक्ति विभाग में भी नए अफसर की पोस्टिंग हुई है। सुरक्षा अफसर भी बदला गया है। अलग-अलग विभागों के अधीक्षकों के पद पर भी नियुक्ति हुईं हैं।

अधिकारी दे रहे सकारात्मक संदेश

 

कर्मचारी नेता राजू ठाकुर के मुताबिक, मिल और कर्मचारियों के हित में यूनियन हर समझौते को तैयार हैं। बातचीत में अधिकारी सकारात्मक संदेश दे रहे हैं। डीजीएम ने इच्छा जताई है कि भारतीय मजदूर संघ और हिंद मजदूर सभा के प्रतिनिधि बैठकर मिल के बारे में अपना रुख स्पष्ट करें।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement