Home International News The Method Of Bomb Blast In Kabul Is Revealed By Kabul

बीजेपी ने चुनाव लड़ने के लिए करोड़ों रुपये दिए- कांग्रेस

हिमाचल के किन्नौर में भूकंप के झटके, तीव्रता 4.1

कुमारस्वामी से मुलाकात के बाद तय होगी आगे की रणनीतिः गुलाम नबी आजाद

गहलोत और वेणुगोपाल ने राहुल को कर्नाटक के ताजा हालात की जानकारी दी

कर्नाटक चुनाव में भाजपा ने 6000 करोड़ रुपये खर्च किए- आनंद शर्मा

..तो ऐसे हुआ था काबुल पर अटैक

International | Last Updated : Jun 20, 2017 04:44 PM IST


the method of bomb blast in kabul is revealed by kabul



दि राइजिंग न्यूज

काबुल।


इस्लामिक गणराज्य अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में बुधवार की सुबह एक बम धमाका हुआ जिसमे 80 लोगों की मौत हो गयी और करीबन 350 लोग घायल हो गए। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस हमले में तकरीबन 1500 किलोग्राम विस्फोटक इस्तेमाल किया गया था। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की मदद से यह अटैक वहां के हक्कानी नेटवर्क ने किया और इस बात का दावा अफगानिस्तान की खुफिया एजेंसी “नेशनल सिक्युरिटी डायरेक्टोरेट” (एनडीएस) ने किया है। 





2001 के बाद यहां सबसे बड़ा हमला


मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि काबुल में 2001 के बाद से यह पहला ऐसा हमला है जिसमें इतने ज्यादा लोगों की मौत हुई है। इससे पहले जुलाई 2016 में काबुल में प्रोटेस्ट कर रहे शिया मुस्लिमों पर फिदायीन हमला हुआ था। इसमें 85 लोगों की मौत हो गई थी और 230 से ज्यादा घायल हुए थे। आईएसआईएस ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।




इंडियन एम्बेसी से 100 मीटर दूर हुआ था ब्लास्ट


यह ब्लास्ट इंडियन एम्बेसी से महज 100 मीटर की दूरी पर हुआ था। इस अटैक में इस्तेमाल किया गया विस्फोटक एक टैंकर में भरा था। धमाके से इलाके में कई देशों की एम्बेसी और घरों की खिड़कियों के कांच टूट गए और दरवाजे उखड़ गए। 50 से ज्यादा गाड़ियां बुरी तरह ध्वस्त  हो गईं थीं। काबुल में इंडियन एम्बेसडर मनप्रीत वोहरा जानकारी दी है कि इंडियन एम्बेसी में सभी ऑफिशियल्स सुरक्षित हैं।





ट्रम्प ने की हमले की निंदा


डोनाल्ड ट्रम्प ने अफगानिस्तान के प्रेसिडेंट अशरफ गनी से बात कर इस हमले की निंदा की है। उन्होंने इसे बर्बर हमला बताया।




मोदी ने की थी हमले निंदा


नरेंद्र मोदी ने भी इस हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद से मुकाबला करने में भारत अफगानिस्तान के साथ खड़ा है। उन्होंने यह बी कहा कि आतंकवाद का साथ देने वाली ताकतों को शिकस्त देने की जरूरत है।




शनिवार को खोस्त शहर में हुआ था ब्लास्ट


आपको बताते चलें कि इस महीने की शुरुआत में काबुल में ही अमेरिकी एम्बेसी के बाहर फिदायीन हमला किया गया था, जिसमें आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस ने ली थी।




पिछले सोमवार को कंधार में सिक्युरिटी फोर्सेज को निशाना बनाकर हमला किया गया था। इसमें 11 सैनिकों की मौत हो गई थी। इसके बाद शनिवार को खाेस्त शहर में फिदायीन ने कार में ब्लास्ट किया था, जिसमें 18 लोगों की मौत हो गई थी। अमेरिकी सेना के साथ मिलकर काम कर रहीं अफगान सिक्युरिटी फोर्सेज को निशाना बनाकर ये हमला किया गया था।


यह भी पढ़ें

सैनिक कर सकते हैं तीन महिलाओं के साथ रेप

हिलेरी और ट्रंप के बीच हुई  बहस

जीका वायरस का अगला शिकार भारत 

भारत का पड़ोसी देश, देश की सुरक्षा के लिए ख़तरा

बिहेवियरल मार्केटिंग: अश्लील विज्ञापनों से परेशान हो गए कनपुरिये!

23 साल बाद क्‍या एक होंगे बुआ-बबुआ!



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...