Thugs of Hindostan Katrina Kaif Look Motion Poster Released

दि राइजिंग न्यूज़

इंटरनेशनल डेस्क।

 

चीन के सबसे अमीर शख्स और अलीबाबा के फाउंडर जैक मा ने रिटायरमेंट लेने की घोषणा कर दी है। अलीबाबा वो ही कंपनी है, जिसका भारत में यूसी ब्राउजर और यूसी न्यूज एप सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। सोमवार को जैक मा कंपनी में अपना पद छोड़ देंगे। इसकी घोषणा करते हुए खुद जैक ने कहा कि कंपनी के सीईओ बनने से अच्छा है लोगों को पढ़ाना। इसके लिए वो जल्द ही एक नई भूमिका में दिखेंगे।

 

बिल गेट्स से बहुत कुछ सीखना है

जैक मा की कुल नेटवर्थ 2.88 लाख करोड़ रुपये है। 54 साल की उम्र में अपने रिटायरमेंट की घोषणा करने वाले जैक ने कहा कि वह साथी अरबपति बिल गेट्स के कदमों पर चलकर अपने नाम से फाउंडेशन शुरू करना चाहते हैं, जो शिक्षा पर केंद्रित होगा। उन्होंने कहा कि बिल गेट्स से बहुत कुछ सीखना है। मैं उनकी तरह अमीर तो नहीं बन सकता, पर एक चीज मैं उनसे बेहतर कर सकता हूं। वह यह कि मैं उनसे पहले रिटायर हो सकता हूं। मा ने कहा कि मैं पिछले 10 साल से इसके लिए तैयारी कर रहा हूं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि यदि जैक मा कंपनी छोड़ते हैं तो भी वह पार्टनरशिप स्ट्रक्चर द्वारा नियंत्रित होगी, जो एग्जीक्यूटिव्स के समूह को बोर्ड में सदस्यों का नामांकन करने में सक्षम बनाता है।

दो बार हुए थे परीक्षा में फेल

अलीबाबा के सीईओ पद से रिटायर होने की घोषणा करने वाले जैक मा चीन की विश्वविद्यालय परीक्षा में दो बार फेल हुए थे। इसी बात से उन्हें काफी कटोच पहुंचती है। मा ने कहा कि वो कभी भी अच्छे छात्र नहीं बन सके, लेकिन इसके बावजूद लगातार सुधार किया और जिंदगी से सीखता रहा। 

 

20 साल पहले रखी थी अलीबाबा की नींव

मा ने करीब 20 साल पहले अपने एक दोस्त के साथ मिलकर अलीबाबा की शुरुआत की थी। आज दुनिया भर में इस कंपनी का नाम है। अलीबाबा की सालाना नेटवर्थ 29 लाख करोड़ रुपये है। 2013 में सीईओ पद से इस्तीफा देने के बाद आज भी वह कंपनी का प्रमुख चेहरा हैं। वह पहले ऐसे विदेशी कारोबारी हैं जिनसे डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति बनने के बाद मिले थे।

अपनी टीम पर है पूरा भरोसा

जैक मा ने कहा कि मुझे अपनी टीम पर पूरा भरोसा है। यह स्ट्रक्चर मैंने बनाया है, कुछ निवेशकों को भले ही यह पसंद नहीं है। पर मुझे लगता है यह कंपनी को मेरा सबसे बड़ा योगदान है और इसे लंबे समय तक चलाने में कारगर होगा। जैक मा के पास अलीबाबा के साथ ही साथ एंट फाइनेंशियल का भी नियंत्रण है। यह चीन की सबसे बड़ी मोबाइल पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर है। इससे चीन के करीब 87 करोड़ लोग जुड़े हुए हैं।

 

भारत में भी किया है कई कंपनियों में निवेश

चीन के अलावा अलीबाबा के भारत सहित पूरे विश्व में कई जगह कार्यालय हैं। भारत में इस कंपनी को ज्यादातर लोग यूसी ब्राउजर और यूसी न्यूज के नाम से ज्यादा जानते हैं। आजकल हर स्मार्टफोन में यह होता ही है। इसके अलावा भारत में इसकी ई-कॉमर्स वेबसाइट अलीबाबा.कॉम भी मश्हूर है। कंपनी ने पेटीएम में भी भारी भरकम निवेश कर रखा है। इसके अलावा ऑनलाइन ग्रोसेरी कंपनी बिगबास्केट, जोमाटो आदि में भी निवेश किया है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement