Home International News Pakistan Military Courts End After 2 Years

IRCTC टेंडर मामले की जांच कर रही सीबीआई ने लालू यादव को भेजा समन

आज भारत और पाकिस्तान के बीच DGMO स्तर की बातचीत हुई

हरिद्वार में भारी बरसात की चेतावनी के बाद शनिवार को स्कूल बंद रखने की घोषणा

PM मोदी ने जल शव वाहिनी और जल एंबुलेंस को दिखाई हरी झंडी

जिन योजनाओं का शिलान्यास हम करते हैं, उनका उद्घाटन भी हम ही करते हैं: PM मोदी

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

खत्म कर दी गर्इं पाकिस्तानी सैन्य अदालतें

International | 9-Jan-2017 11:47:08 AM
     
  
  rising news official whatsapp number
  • अब तक 161 आतंकियों को सुना चुकी सज़ा-ए-मौत

Pakistan military courts end after 2 years


दि राइजिंग न्‍यूज

09 जनवरी, इस्‍लामाबाद।

अबतक 161 आतंकियों को मौत की सजा सुना चुकी पाकिस्तान की विवादित सैन्य अदालतें दो साल बाद शनिवार (7 जनवरी) को खत्म कर दी गर्इं। इन अदालतों का गठन सेना के एक स्कूल पर तालिबान के घातक हमले के बाद कट्टर आतंकियों की त्वरित सुनवाई के लिए किया गया था। उस हमले में लगभग 150 बच्चे मारे गए थे। इन अदालतों की स्थापना संविधान में संशोधन के जरिए की गई थी।

यह संशोधन 16 दिसंबर 2014 को पेशावर के स्कूल पर किए गए हमले के बाद किया गया था। इस कदम से भारी बहस छिड़ गई थी और अदालतों में विभिन्न मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने इसे देश के संविधान और अंतर्राष्ट्रीय चार्टरों में वर्णित मूलभूत मानवाधिकारों का उल्लंघन करार दिया था।

इन अदालतों को काम करने दिया गया क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने संसद की ओर से साल 2015 में लागू किए गए 21वें संवैधानिक संशोधन और पाकिस्तान सेना (संशोधन) विधेयक, 2015 को वैध करार दिया था। संशोधन में यह सुनिश्चित किया गया था कि ये अदालतें दो साल बाद खत्म होंगी।

ये भी पढ़ें

पीएम मोदी कर सकते है ये नया ऐलान

जब आठवीं में पढ़ने वाली स्‍टूडेंट से टीचर ने कहा आई लव यू तो...

सेना द्वारा नागरिकों पर मुकदमा चलाने की असाधारण ताकतों की समाप्ति के बारे में सरकार या सेना की ओर से कोई औपचारिक बयान नहीं आया क्योंकि इन्हें दो साल बाद खत्म हो ही जाना था। सैन्य अदालत में पहली दोषसिद्धियां अप्रैल 2015 में हुर्इं और अंतिम दोषसिद्धि 28 दिसंबर 2016 को की गई।

दो साल की इस अवधि के दौरान अदालतों को 275 मामले सौंपे गए और अदालतों ने 161 आतंकियों को मौत की सजा सुनाई। 116 अन्य आतंकियों को कैद की सजा सुनाई गई। इनमें से ज्यादातर को उम्रकैद दी गई। सेना के मुताबिक, अब तक सिर्फ 12 दोषियों की मौत की सजा की तामील हुई है। जिन आतंकियों को सजाएं सुनाई गर्इं, वे अल-कायदा, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, जमातउल अहरार, तौहीद वल जिहाद ग्रुप, जैश-ए-मुहम्मद, हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी, लश्कर-ए-झंगवी, लश्कर-ए-झंगवी अल-आलमी, लश्कर-ए-इस्लामी और सिपह-ए-सहाबा से जुड़े थे।

सैन्य अदालतों में दोषसिद्धि के बाद जिन आतंकियों को फांसी पर चढ़ाया गया, उनमें पेशावर स्कूल हमले का साजिशकर्ता शामिल था। अब तक जिन आतंकी मामलों को सैन्य अदालतों में भेजा जा रहा था, अब उनकी सुनवाई देश में पहले से सक्रिय आतंकवाद-रोधी अदालतों में की जाएगी। पाकिस्तान सुरक्षा कानून के रूप में पहचाने जाने वाले आतंकवाद रोधी कानून के पिछले साल खत्म हो जाने के बाद विशेष अदालत व्यवस्था खत्म हो गई। यह अदालतों की अनुमति के बिना आतंकियों को 90 दिन तक हिरासत में रखने की अनुमति देती थी।

पाकिस्तान के नवनियुक्त सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने सैन्य अदालतों की ओर से 21 कट्टर आतंकियों की मौत की सजाओं की पुष्टि पिछले महीने की थी।



जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
जय माता दी........नवरात्र के लिए मॉ दुर्गा की प्रतिमा को भव्‍य रूप देता कलाकार। फोटो - कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की