Actress Jhanvi kapoor  Shares The Image of Dhadak Sets on Social Media

दि राइजिंग न्यूज़

एंटरटेनमेंट डेस्क।

सदी के महानायक यानी अमिताभ बच्चन आज अपना 76वां जन्मदिन मना रहे हैं। इलाहाबाद में 11 अक्टूबर 1942 को जन्में अमिताभ ने 1969 में फिल्म “सात हिंदुस्तानी” से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की। 1973 में आई फिल्म “जंजीर” में पुलिस इंस्पेक्टर की उनकी भूमिका ने उन्हें एंग्री यंगमैन का टाइटल दिलाया और रातोंरात स्टार बना दिया। इसके बाद “दीवार” और “शोले” जैसी फिल्मों ने उन्हें एक महान अभिनेता के तौर पर गढ़ दिया।

 

बेस्ट न्यूकमर के अवार्ड से नवाज़े गए बिग बी

अमिताभ ने अपने फिल्मी करियर की शुरूआत ख्वाज़ा अहमद अब्बास के निर्देशन में बनी “सात हिंदुस्तानी” से की। इस फिल्म में अमिताभ ने उत्पल दत्त, मधु और जलाल आगा जैसे कलाकारों के साथ अभिनय किया। फ़िल्म कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई लेकिन बच्चन ने अपनी पहली फ़िल्म के लिए बेस्ट न्यूकमर एक्टर का अवार्ड अपने नाम कर लिया। 1971 में आई फिल्म “आनंद” में अमिताभ सपोर्टिंग रोल में नज़र आए। इस फिल्म ने बच्चन को एक खास पहचान दिलाई। फिल्म में मुख्य भूमिका में राजेश खन्ना थे। इस फिल्म के लिए अमिताभ बच्चन को बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला।

फ्लॉप भी हुईं फ़िल्में लेकिन...

अपने शुरुआती दिनों में अमिताभ को बहुत संघर्ष करना पड़ा। उनकी लगतातार 12 फिल्में फ्लॉप हो हुईं। 30 साल की उम्र में उनकी गिनती असफल कलाकारों में होने लगी। अपने संघर्ष के दिनों में वे सात साल तक अभिनेता, निर्देशक एवं कॉमेडियन महमूद साहब के घर में रूके रहे।

 

“एंग्रीयंग मैन” का यादगार किरदार

1973 में जब प्रकाश मेहरा ने इन्हें अपनी फिल्म जंजीर में इंस्पेक्टर विजय खन्ना का रोल दिया तो अमिताभ के करियर में एक नया मोड़ आ गया। इस फिल्म से पहले अमिताभ ने रोमांटिक रोल ही किए थे। लेकिन इस रोल ने अमिताभ बच्चन को एंग्री यंगमैन के रूप में पहचान दिलाई। बॉक्स ऑफिस पर सफलता पाने वाले एक जबरदस्त अभिनेता के रूप में यह उनकी पहली फिल्म थी। इस फिल्म के बाद कामयाबी का एक ऐसा दौर शुरु हुआ जो अमिताभ को रोज़ नई ऊंचाइयों पर ले जाता रहा।

जया से रचाई शादी

1973 ही वह साल था जब अमिताभ ने तीन जून को जया भादुड़ी से शादी की। इस समय ये दोनों न केवल जंजीर में बल्कि एक साथ कई फिल्मों में दिखाई दिए। “अभिमान” इनकी शादी के एक महीने बाद ही रिलीज हुई। इसके बाद ऋषिकेश मुखर्जी के निर्देशन में “विक्रम” की भूमिका वाली फिल्म “नमक हराम” मिली। राजेश खन्ना और रेखा के साथ अमिताभ को भी इस फिल्म के लिए बेहद सराहना मिली। इस फिल्म के लिए अमिताभ को बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला।

 

शोले का रिकॉर्ड

15 अगस्त, 1975 को रिलीज हुई फिल्म “शोले” ने भारतीय सिनेमाई दर्शकों के मन में अमिताभ बच्चन की अमिट छाप छोड़ी। ये फिल्म उस समय की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बन गई। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन ने इंडस्ट्री के नामचीन सितारों जैसे धर्मेन्‍द्र, हेमा मालिनी, संजीव कुमार, जया बच्चन और अमजद खान के साथ काम किया। इस फिल्म में अमिताभ ने जयदेव की भूमिका अदा की थी। 1999 में बीबीसी इंडिया ने इस फिल्म को “फिल्म ऑफ द सेन्चुरी” का नाम दिया।

रेखा के साथ अफेयर

जहां भी अमिताभ का जिक्र हो रहा हो वहां रेखा का नाम खुद-ब-खुद आ जाता है। 1976 में फिल्म दो अंजाने के साथ अमिताभ की ज़िंदगी में रेखा की एंट्री हुई। हालांकि इस वक्त तक अमिताभ और जया भादुड़ी की शादी को तीन साल हो चुके थे। लेकिन इसके बावजूद आने वाले सालों तक अमिताभ का नाम लगातार रेखा के साथ जुड़ता रहा। दोनों ने साथ में “मुकद्दर का सिकंदर”, “खून पसीना” जैसी कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया। 1980 में यश चोपड़ा की सिलसिला में तो अमिताभ, रेखा के साथ-साथ जया बच्चन भी नज़र आयीं। सिलसिला देखकर दर्शकों को भी ऐसा लगा जैसे ये किरदार पर्दे पर अपनी असली ज़िंदगी जी रहे हैं। लेकिन सिलसिला फ्लॉप रही और अमिताभ-रेखा की जोड़ी की आखिरी फिल्म साबित हुई।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement