Home news Bihar Scenario Editorial By Sasha Sauvir

IndvsNZ: पहले वनडे में भारत ने टॉस जीता, बल्लेबाजी का फैसला

जापान में आम चुनाव के लिए मतदान जारी, PM शिंजो अबे को बहुमत के आसार

आज विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बांग्लादेश के 2 दिवसीय दौरे पर होंगी रवाना

J-K: बांदीपुरा के हाजिन में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर

दो दिवसीय बांग्लादेश दौरे पर आज रवाना होंगी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज

बिहार में बहार है, सीएम नीतीश कुमार है

Editorial | 27-Jul-2017 03:22:12 PM

 

17
साशा सौवीर
(आउटपुट हेड, दि राइजिंग न्यूज)

 

बिहार के सीएम पद से इस्‍तीफा देने के बाद नीतीश कुमार पूरे देश के हीरो बन गए, वो हीरो जो भ्रष्‍टाचार विरोधी है। उनकी नैतिकता की दुहाई दी जा रही है, लेकिन वास्‍तविकता क्‍या है?

लालू यादव ने अपने प्रेस कांफ्रेंस में नीतीश कुमार के दावों की हवा निकालने की बहुत ही कमजोर कोशिश की! खैर लालू प्रसाद यादव से इससे अधिक की उम्मीद भी नहीं की जा सकती!

दरअसल नीतीश कुमार एक ऐसे राजनेता हैं जो न सिर्फ जनता को बहलाने में माहिर हैं बल्कि वे बड़ी-बड़ी राजनीतिक पार्टियों को भी अपने झांसे में डालते रहे हैं। वह भी इतनी खूबी से कि जिस भी पार्टी के पास वो जाते हैं, उन्हें वे सबसे भरोसेमंद साथी लगते हैं। और नीतीश ऐसे मौके पर इन दलों को झटका देते हैं जब कोई उनपर ऊंगली तक न उठा पाए। हर बार ऐसा करने पर उन्होंने वाहवाही ही बटोरी है।

लोग और राजनीतिक पंडित भले ही नीतीश को पीएम का दावेदार और नरेंद्र मोदी का विकल्प वगैरह बताते रहे हैं लेकिन नीतीश को यह पता है कि राष्ट्रीय राजनीति में उनका कद कितने पानी में है। इस वजह से वे लगातार बड़े ही शातिर अंदाज में अपने को बिहार की राजनीति में सबसे बड़े कद के नेता के बतौर टिकाए रखना चाहते हैं। इसके लिए कभी वो सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई का राग अलापते हैं और कभी भ्रष्टाचार के खिलाफ।

अभी महागठबंधन तोड़ने से ठीक पहले नीतीश और जेडीयू ने जो किया ठीक वैसा ही बिहार में बीजेपी से गठबंधन तोड़ने से पहले किया था। अभी जैसे सत्ताधारी एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार कोविंद को समर्थन देकर महागठबंधन अटूट है का राग जेडीयू और नीतीश अलाप रहे थे, 2012 में प्रणब मुखर्जी को समर्थन देकर उस वक्त ये कह रहे थे कि एनडीए से इस पर कोई आंच नहीं आएगी।

कई मुद्दों पर तब वे बीजेपी से अलग राय रख रहे थे जैसे हाल में उन्होंने विपक्ष की नोटबंदी पर राय से अलग रुख अख्तियार किया था। लेकिन तब भी गठबंधन टूटा था और इस वक्त भी।

 

तब लालू खुश थे और आज बीजेपी 

लेकिन एनडीए टूटा और आज जिस तरह बीजेपी खुश होकर नीतीश को भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई का हवाला देकर समर्थन दे रही है, कमोबेश इसी तरह उस वक्त लालू प्रसाद यादव और कांग्रेस ने सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई का हीरो बनाकर बाहर से समर्थन देकर नीतीश को मुख्यमंत्री बनाए रखा।

हालांकि 2014 के लोकसभा चुनाव में नीतीश बीजेपी और आरजेडी दोनों में से किसी के साथ नहीं गए। इसका मूल कारण यह था कि नीतीश अपनी ताकत भांपना चाहते थे। लोकसभा चुनावों में वो चारों खाने चित्त हुए।

जरा सोचिए अगर नीतीश ने 2014 का चुनाव एनडीए के साथ लड़ा होता तो आज जेडीयू का हाल महाराष्ट्र की शिवसेना की तरह होता और वह बीजेपी की जूनियर पार्टनर होती। लेकिन नीतीश ने समय रहते यह भांप लिया था कि बीजेपी लोकसभा में प्रचंड जीत के बाद उन्हें झटका दे सकती है।

बीजेपी ने अपने कई साथी दलों के साथ लोकसभा चुनाव के बाद यह किया भी है। शिवसेना इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। कई छोटे दलों को बीजेपी ने अपने चुनाव चिह्न पर लड़ने के लिए भी मजबूर कर दिया, और शातिर नीतीश कुमार बहुत पहले बीजेपी की इस नीति को समझ गए थे। वैसे भी नीतीश को जूनियर बनकर रहना पसंद नहीं है।

वैसे नीतीश कुमार यह तभी भांप गए थे जब 2010 के बिहार विधानसभा में जेडीयू को भले ही ज्यादा सीटें मिली थीं लेकिन बीजेपी की सफलता का प्रतिशत ज्यादा बेहतर था। ठीक यही 2015 के विधानसभा चुनावों में हुआ। आरजेडी और कांग्रेस की सफलता का रेट जेडीयू से ज्यादा बेहतर था।

2010 के विधानसभा चुनावों बीजेपी के बढ़ते कद को देखकर नीतीश कुमार ने समय रहते धर्मनिरपेक्षता का झंडा उठा लिया। जिस तरह महागठबंधन तोड़ने से पहले वे तेजस्वी के साथ मंच साझा करने से बच रहे थे ठीक उस वक्त बीजेपी से अलग होने के समय उन्होंने नरेंद्र मोदी का बहिष्कार कर रखा था। वे नरेंद्र मोदी के साथ मंच साझा करने से इनकार करके लोगों के ही नहीं बल्कि बीजेपी के विरोधी दलों के भी हीरो बन रहे थे। जबकि यह भी एक तथ्य है कि इस्तीफा देने में माहिर नीतीश ने गुजरात दंगों के समय केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा नहीं दिया था।

 

घर वापसी

दरअसल नीतीश कुमार त्याग की ऐसी प्रतिमूर्ति के रूप में अपने को दिखाते हैं कि जनता तो जनता माहिर राजनेता और राजनीतिक दल भी इस उनके भुलावे में आ जाते हैं।

इसका सबसे बड़ा उदाहरण तो यह है कि बीजेपी के साथ गठबंधन होने के बाद जिसे लोग घर वापसी का नाम दे रहे हैं, ठीक इसी तरह लालू यादव के साथ महागठबंधन बनने के वक्त राजनीतिक पंडित लालू-नीतीश के पुराने साथ का हवाला दे रहे थे। आज बीजेपी अपने को चैंपियन समझ रही है उस वक्त लालू यादव अपने को चैंपियन समझ रहे थे।

बिहार में बहलाने-फुसलाने को लेकर एक शब्द काफी चलता है- पोटना। वास्तव में नीतीश सिर्फ जनता ही नहीं राजनीतिक दलों को भी पोटना अच्छी तरह जानते हैं। नीतीश भारत के एकमात्र ऐसे राजनेता हैं जिसने अतिवाम दल से लेकर अतिदक्षिणपंथी दल तक से चुनावी तालमेल किया है। यही नहीं वे पार्टी के भीतर भी बढ़ने वाले किसी भी नेता के कद को इस तरह कम करते हैं कि आप कह सकते हैं- तू कत्ल करो ही कि करामात करो हो।

 

HTML Comment Box is loading comments...
Content is loading...

 

संबंधित खबरें




What-Should-our-Attitude-be-Towards-China

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


Flicker News


Most read news

 

Most read news

 

Most read news

खबर आपके शहर की