Home Business News Demonetization Rs 14 Lakh Crore In Old Notes Are Back Only Rs 75000 Crore Out

काले धन और भ्रष्टाचार पर हमारी कार्रवाई से कांग्रेस असहज: अरुण जेटली

मुंबई के पृथ्वी शॉ बने दिलीप ट्रॉफी फाइनल में शतक लगाने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी

दिल्ली में बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक संपन्न हुई

31 अक्टूबर को रन फॉर यूनिटी का आयोजन होगा: अरुण जेटली

एक निजी संस्था ने हनीप्रीत का सुराग देने वाले को 5 लाख का इनाम देने की घोषणा की

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

14 लाख करोड़ की पुरानी करंसी बैंकों में जमा

Finance | 9-Jan-2017 12:59:23 PM
     
  
  rising news official whatsapp number

  • सरकारी अफसर ने कहा-75 हजार करोड़ रुपये नहीं लौटेंगे
  • पुरानी करंसी के रूप में 50 हजार करोड़ रुपये बैंकों के पास थे

Demonetization rs 14 lakh crore in old notes are back only rs 75000 crore out

दि राइजिंग न्‍यूज

09 जनवरी, नई दिल्‍ली।

सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि नोटबंदी के बाद 75000 करोड़ के 500 और 1000 के नोट बैंकिंग सिस्टम में वापस नहीं लौटेंगे। अब तक मिली जानकारी के मुताबिक 14 लाख करोड़ की करंसी बैंकों में जमा की जा चुकी है। जब बड़े नोटों को बंद करने का फैसला लिया गया था, तब सरकार ने अनुमान जताया था कि बाजार में मौजूद कुल करंसी का 20 प्रतिशत हिस्सा यानी करीब तीन लाख करोड़ रुपये वापस नहीं लौटेंगे।

अफसर ने बताया कि यह हमें भी मालूम है कि जब पीएम नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का फैसला घोषित किया था तो 500 और 1000 की पुरानी करंसी के रूप में 50 हजार करोड़ रुपये बैंकों के पास मौजूद थे। सरकारी अधिकारियों ने दावा किया कि नई करंसी में 10 लाख करोड़ रुपये बैंकों को सप्लाई हो चुके हैं।

नोटबंदी से लोगों को हो रही परेशानी से निजात पाने के लिए सरकार ने आरबीआइ से राय मांगी है कि क्या वह अपने मुद्रा भंडार से 75 हजार करोड़ रुपये जारी कर सकता है या नहीं। लेकिन आरबीआई का कहना है कि स्थिति अगले एक पखवाड़े में सामान्य के करीब पहुंच जाएगी। आरबीआइ ने कहा कि 2-2.5 लाख करोड़ की नई करंसी छापी जा चुकी है और बैंकों तक पहुंच भी गई है।

नोटबंदी से पहले आठ नवंबर को देश में कुल 17.50 लाख करोड़ नोट थे, इसमें 500 और 1000 के नोटों की संख्या 15.50 लाख करोड़ थी, जो कुल करंसी का 88 प्रतिशत थी। फिलहाल बैंकों के पास 500 और 1000 रुपये के करीब 14.50 लाख करोड़ रुपये हैं।

आरबीआइ ने इन नोटों की काउंटिंग भी शुरू कर दी है ताकि नकली करंसी का पता लगाया जा सके। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि आरबीआइ के पास 60 बड़ी मशीनें हैं जो वापस आई करंसी में असली और नकली का फर्क बता सकती हैं।

अधिकारी ने कहा कि अगर यह 60 मशीनें 12 घंटें भी काम करें तब भी इस काम में 600 दिनों का वक्त लग जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार इस प्रक्रिया का विकेंद्रीकरण करने पर भी विचार कर रही है। इसमें बैंकों को भी शामिल करने पर सोचा जा रहा है ताकि काम जल्दी खत्म हो जाए।



जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
जय माता दी........नवरात्र के लिए मॉ दुर्गा की प्रतिमा को भव्‍य रूप देता कलाकार। फोटो - कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की