Pregnant Actress Neha Dhupia Shares Her Opinion on Pregnancy

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

फिल्म पद्मावत को लेकर चल रहा विवाद थमता नहीं दिख रहा है। कोर्ट के आदेश के बाद प्रदेश के विभिन्न जिलों में राजपूत समाज के लोगों की गतिविधियां बढ़ गई हैं। कुछ जिलों में राजपूत नेताओं ने फिल्म का प्रदर्शन यूपी में प्रतिबंधित करने की मांग की है।

 

 

आंदोलन की धमकी

राष्ट्रीय क्षत्रिय महासभा और ब्रज मंडल क्षत्रिय राजपूत महासभा जैसे संगठन फिर सक्रिय हो गए हैं। फिल्म प्रदर्शन को लेकर बढ़ने वाली आशंकाओं के प्रति राज्य सरकार सतर्क है। गौरतलब है कि विवादों से घिरी संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत पर विभिन्न राज्यों में लगाए बैन को सुप्रीम कोर्ट द्वारा हटाए जाने के बाद राजस्थान का राजपूत समाज उग्र हो गया और लोग सड़कों पर उतर आए। राजपूत समाज ने फिल्म रिलीज होने पर जौहर की ज्वाला में बहुंत कुछ जल जाने की धमकी दी है।

24 जनवरी को करीब पांच हजार राजपूत महिलाएं जौहर करेंगी। यह जौहर उसी स्थान पर होगा जहां रानी पद्मनी ने 16 हजार सखियों और रानियों के साथ जौहर किया था। इसका असर राजस्थान से सटे उत्तर प्रदेश के शहरों में भी पड़ा है।

 

 

मुख्‍यमंत्री को भेजा गया ज्ञापन

लखीमपुर में राष्ट्रीय क्षत्रिय महासभा अध्यक्ष कुलदीप कुमार सिंह के नेतृत्व में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन भेजा गया। जिसमें 25 जनवरी 2018 को रिलीज होने वाली फिल्म पद्मावत को उत्तर प्रदेश में प्रतिबंधित करने की मांग की गई।

भारतीय हिंदू संस्कृति की रानी पद्मावती को सती मां के रूप में पूजा जाता है फिल्म निर्देशक ने गलत तरीके से प्रदर्शित करने तथा राजपूतों के इतिहास के साथ खिलवाड़ किया है। राजपूतों के इतिहास के साथ छेड़छाड़ को बर्दाश्त नहीं करेंगे। हर स्तर पर संघर्ष करते रहेंगे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement