Ayushman Khurrana Wants To Work in Kishore Kumar Biopic

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

आज कांग्रेस पार्टी के 84वें महाधिवेशन का तीसरा और आखिरी दिन है। इस मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी और आरएसएस पर जमकर हमला बोला। राहुल ने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष हत्यारोपी हैं। उन्‍होंने कहा, मैं अपना आधा भाषण हिंदी में दूंगा, आधा इंग्लिश में, साउथ इंडिया से आने वालों के लिए।

राहुल ने कहा कि कांग्रेस पांडवों की तरह है, जो सच्चाई के लिए लड़ती है। बीजेपी और आरएसएस कौरवों की तरह है जो सिर्फ सत्ता के लिए लड़ते हैं। उन्होंने कहा कि कौरवों की तरह बीजेपी सत्ता के नशे में चूर है। उन्होंने कहा कि बीजेपी एक संगठन की आवाज है और कांग्रेस पूरे देश की आवाज है।

कांग्रेसियों ने देश के लिए जान दी

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, लाखों कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने देश के लिए अपनी जान दी है। इस देश में एक भी ऐसा राज्य नहीं है, जिसमें कांग्रेसियों ने अपनी जान नहीं दी हो। कांग्रेसी नेता अंग्रेजों के समय में जेल गए थे, लेकिन इनके सावरकर चिट्ठी लिखकर भीख मांग रहे थे। मैं खुश होकर नहीं कहता कि हमारी सरकार के आखिरी समय में हम जनता की उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे, जनता की उम्मीदों के हिसाब से नहीं चले।

उन्‍होंने कहा, आज भ्रष्टाचारी ताकत में हैं। हम दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है, लेकिन दूसरी ओर करोड़ों युवाओं के पास रोजगार नहीं है। हर जगह लोग कह रहे हैं कि देश का विकास हो रहा है, लेकिन जब देश में घूमता हूं, किसी नौजवान से पूछता हूं क्या करते हो, वह कहता है कुछ नहीं। ये आज के हिंदुस्तान की सच्चाई है। हर जगह मेड इन चाइना उत्पाद मिलता है।

राहुल ने कहा, गुजरात के चुनाव में लोगों ने कहा कि मैं मंदिर में जाता हूं, लेकिन मैं बहुत पहले से ही सिर्फ मंदिर में नहीं, मस्जिद, चर्च और गुरुद्वारे में भी जाता हूं। मेरी 34 साल की उम्र थी, राजनीति में आया। सिंधिया जी थे, पायलट जी थे, कमलनाथ जी थे। बहुत कुछ सीखने को मिलता है।

कांग्रेस गांधी जी का संगठन, शेरों का संगठन

राहुल ने कहा, बीजेपी चुनाव हारते जा रही है। मोदी जी के चेहरे पर आपने फर्क देखा होगा। अब सूट नहीं पहनते हैं। सोच रहे होंगे कि गुजरात में तो बच गए शायद 2019 में नहीं बच पाएंगे। कांग्रेस को किसी से नहीं डरना है। यह गांधी जी का संगठन है। शेरों का संगठन है। हम लोग हिंसा नहीं फैलाएंगे।

कौरवों की तरह भाजपा सत्ता के मद में चूर

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा और संघ की तुलना कौरवों से करते हुए कहा कि वे सत्ता के मद में चूर हैं, जबकि कांग्रेस पांडवों की तरह सच्चाई की लड़ाई लड़ रही है। उन्होंने कहा कि हजारों साल पहले कुरुक्षेत्र में कौरव और पांडवों के बीच एक युद्ध लड़ा गया था।

कौरव ताकतवर, संपन्न थे और उनके पास जीतने लायक बड़ी सेना थी, जबकि सब कुछ गंवा देने वाले पांडवों के पास छोटी सेना थी। इसके बावजूद पांडवों ने सच्चाई की लड़ाई लड़ी और जीती। भाजपा और संघ कौरवों की तरह अहंकार में हैं और सत्ता के लिए लड़ रहे हैं। कांग्रेस सच्चाई का संगठन है। कोई कितना भी ताकतवर क्यों न हो, वह हमें लोगों को इंसाफ दिलाने और सच्चाई बोलने से रोक नहीं सकता है।  

 

मंदिर जाने की दो कहानियां

राहुल ने कहा, मंदिर की दो कहानी सुनिए। एक बार शिव का मंदिर था, पूजा हो रही थी, पंडित बैठे थे, पूजा खत्म हुई। मैंने पंडित जी से सवाल पूछा- गुरु जी, ये बताइए आपने किया क्या, दूध डाला, पानी डाला, मंत्र पड़े, आपने किया क्या? पंडित जी ने कहा, पहले सिक्योरिटी वालों को दूर करो, मैंने किया। फिर उन्होंने मुझे मंदिर के पीछे दीवार पर खड़ा किया, कहा- दीवार पर माथा लगा। मैंने लगाया तो उन्होंने कहा- मैं यहां का नहीं हूं, कश्मीर का हूं, लोगों को मत बताना। तू भगवान ढूंढ रहा है, वह तो तुझे कहीं भी मिल जाएगा। मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारे, पेड़, आसमान में सब जगह मिलेगा। मैंने कहा- धन्यवाद गुरु जी. मैं चला गया।

राहुल ने दूसरी कहानी में कहा, दूसरा मंदिर, वही पूजा, वही सवाल,  पंडित ने कहा- बेटा ये मत पूछ। मैं अड़ गया, मैंने फिर से पूछा। पंडित जी ने कहा- मैंने पूजा कर दी है, तुम प्रधानमंत्री बनने जा रहे हो. फिर बोले- मंदिर की छत पर क्या है? मैंने कहा- सीमेंट है, जब तुम पीएम बन जाओगे, छत पर सोना लगा देना। एक व्यक्ति सच्चाई कहता है। एक बातें बनाता है।

संगठन पर सवाल

देश का युवा सवाल पूछ रहा है, युवा गुस्से में है, किसान आत्महत्या कर रहे हैं। देश में एक ही संगठन है- ये हाथ वाला संगठन (कांग्रेस)। यह संगठन ही देश के युवाओं को रोजगार यही संगठन दे सकता है, लेकिन इसके लिए संगठन को बदलना पड़ेगा। कई लोगों को यह बुरा लग सकता है, लेकिन ऐसा करना पड़ेगा। पीछे बैठे हमारे कार्यकर्ताओं में बहुत ऊर्जा है, लेकिन उनके और हमारे नेताओं के बीच में दीवार खड़ी है। मेरा पहला काम उस दीवार को तोड़ने का होगा। गुस्से से नहीं, प्यार से। हमारे सीनियर नेताओं की इज्जत करके, प्यार से हम दीवार तोड़ेंगे।

कार्यकर्ताओं का उत्‍साहवर्धन

कोई पैराशूट से टिकट लेकर नीचे गिरता है। दूसरे तरीके में 10-15 साल कार्यकर्ता खून-पसीना देता है और टिकट देने से पहले उससे कहा जाता है- तुम्हे टिकट नहीं मिलेगा। नहीं, अब ऐसा नहीं होगा, आप कार्यकर्ता हो- आपको टिकट मिलेगा। गुजरात में हमने छोटा सा उदाहरण दिया। कार्यकर्ताओं को टिकट दिया। गुजरात में मोदी जी सी-प्लेन में दिखाई दिए थे। हमने कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को ताकत दे दी तो मोदी जी सी-प्लेन नहीं सबमरीन में दिखेंगे।

युवाओं के लिए स्टेज खाली

मैंने भारत के युवाओं के लिए स्टेज खाली किया है। आज तक किसी पार्टी के कार्यक्रम में स्टेज खाली नहीं किया। मैंने आपने लिए किया है। नरेंद्र मोदी भी आपकी ताकत के बिना देश को नहीं बदल सकते हैं, कोई भी नहीं बदल सकता है। मैं करोड़ों लोगों से कहना चाहता हूं कि मैं इस स्टेज को आपसे भरूंगा। प्रतिभावान युवाओं की मदद से मैं स्टेज को भरूंगा।

10 साल में अमेरिका-चीन के साथ होगा भारत

आज दुनिया में दो विजन दिखाई दे रहे हैं- एक अमेरिका का विजन और एक चीन का विजन। मैं 10 सालों में तीसरा विजन दुनिया के सामने लाना चाहता हूं- भारत का विजन। ताकि लोग कहें कि ये है असली विजन। साफ बात है, हमारा चीन से मुकाबला है। चीन में 24 घंटे में 30 हजार रोजगार देते हैं, हमें उनसे प्यार से मुकाबला करना है, नफरत से नहीं, रोजगार कैसे आएगा- हर जिले में कुछ न कुछ बनता है। हम तकनीक और बैंक से इन चीजों को जोड़ेंगे। किसानों की फसलें सड़ रही हैं। मोदी जी कहते हैं- मैं सब बिकवाऊंगा। हम फूड पार्क बनाएंगे, सीधे वहां जाकर फसल बिकेगी।

किसानों की रक्षा

मैं किसानों से कहना चाहता हूं कि आपने इस देश को बनाया है। तकनीक से पहले, बड़े-बड़े उद्योगों से पहले आपने अपने खून-पसीने से इस देश को बनाया है। आपका अहसान हम कभी नहीं भूलने वाले। हमारी सरकार आएगी तो हम आपकी रक्षा करेंगे। पहले जैसे हमने आपका 70 हजार करोड़ रुपया माफ किया था, हम आगे जरूरत पड़ने पर भी आपकी मदद करेंगे। किसानों की रक्षा और रोजगार की जरूरत है तो शिक्षा बहुत जरूरी है।

शिक्षा के लिए करेंगे काम

आज व्यापम को पूरे देश में फैलाया जा रहा है। दिल्ली में छात्र धरना दे रहे हैं, प्रश्न-पत्र बिक रहे हैं, कुछ लोग इन्हें खरीद कर बेच रहे हैं। शिक्षा का हक हर युवा का हक है। आज आइआइटी-आइआइएम है, लेकिन बहुत कम हैं। हमारी सरकार आएगी तो इन संस्थानों में मिलने वाली शिक्षा पूरे देश में दी जाएगी।

कांग्रेस व आरएसएस में फर्क

हम हिंदुस्तान के हर संस्थान की इज्जत करते हैं, आरएसएस वाले देश के हर संस्थान को खत्म करना चाहते हैं। वे बस एक संस्थान को मानते हैं- आरएसएस। वे चाहते हैं कि देश के बाकी संस्थान उनके नीचे काम करें। चाहे वह न्यायपालिका हो, संसद हो, पुलिस हो या कोई और संगठन। मीडिया वाले हमारे बारे में भी खराब लिखते हैं, कई बार गलत भी लिखते हैं, लेकिन मैं आपको आश्वासन देना चाहता हूं कि कांग्रेस का हाथ आपकी रक्षा करेगा। जब आरएसएस आपको मारेगा तो हम आपकी रक्षा करेंगे। दो विचारधाराओं की लड़ाई है, और हम जीतने जा रहे हैं।

मोदी जी रो देते हैं, पर अपनी गलती नहीं मानते है

15 साल से राजनीति में हूं, चोटें लगती हैं, मुझे भी लगीं, आपको भी लगी होंगी। लेकिन हम इनसे सीखते हैं। हमें जब चोट लगती है तो हम सीखते हैं। हमसे गलतियां भी होती हैं। हम सब गलतियां करते हैं, मान लेते हैं। आरएसएस वाले अपनी गलती नहीं मानते हैं। इन्होंने नोटबंदी की, पूरी दुनिया ने इसे गलत कहा। मोदी जी रो दिए, लेकिन अपनी गलती कभी नहीं मानते। कांग्रेस के नेता अपनी गलती मान लेते हैं।

इन्होंने गब्बर सिंह टैक्स (जीएसटी) लागू कर दिया, लाखों लोग बेरोजगार हो गए। कुछ ही दिन पहले अखबार में आया- भारत का जीएसटी सबसे ऊंचा है- पाकिस्तान, हिंदुस्तान और सूडान।

मनमोहन ने भी प्रधानमंत्री मोदी पर साधा निशाना

अंतिम दिन पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि जब मोदी चुनाव प्रचार कर रहे थे तो उन्होंने बड़े-बड़े वादे किए थे, लेकिन वो वादे आज तक पूरे नहीं हुए। रोजगार पर चर्चा करते हुए सिंह ने कहा कि उन्होंने (नरेंद्र मोदी) वादा किया था कि दो करोड़ नौकरियां उपलब्ध कराएंगे, अब तक दो लाख नौकरियां भी देखने को नहीं मिला।

 

 

उन्होंने कहा कि मोदी राज में देश की सीमाएं भी सुरक्षित नहीं रही। मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर मामले को सुलझाने में पूरी तरीके से विफल रही। घाटी में हर दिन के साथ तनाव बढ़ता जा रहा है। इस सरकार में देश की सीमाएं भी सुरक्षित नहीं रही।   

 

क्‍या बोले पी चिदंबरम?

वहीं वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने मोदी सरकार की नीतियों पर सवाल उठाया कि देश की अर्थव्यवस्था का विकास 1990 के दौर में हुआ था जब राजीव गांधी ने उदारीकरण के बोए हुए बीज के फल दिखने शुरू हुए थे। इस उदारीकरण को रफ्तार देने का काम किया था मनमोहन सरकार ने। चिदंबरम ने कहा कि आंकड़े खुद बोलते हैं। मनमोहन सिंह के कार्यकाल की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि यह मोदी सरकार की उपलब्धि है कि उन्होंने अपने कार्यकाल में 14 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला। चिदंबरम के मुताबिक देश में एक बार फिर से गरीबों की संख्या का ग्राफ बढ़ रहा है। बीजेपी सरकार में देश को बड़ा नुकसान हुआ है।

 

आनंद शर्मा के संबोधन से हुई शुरुआत

महाअधिवेशन के आखिरी दिन की शुरुआत आनंद शर्मा के संबोधन से हुई। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने विदेश नीतियों को बाधित करके रख दिया है। पिछले चार सालों में मौजूदा सरकार ने गैर-जिम्मेदार तरीके से काम किया। पिछले चार सालों में विभाजनकारी नीति अपनाई गईं जिसका खामियाजा देश को भुगतना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी अपना ही प्रोपेगंडा लेकर चलते हैं। उनके कार्यकाल में पाकिस्तान द्वारा सीजफायर का उल्लंघन बढ़ा है, उन्होंने विदेश नीति पर सवाल उठाते हुए कहा कि विदेश में पूर्व प्रधानमंत्रियों का अपमान किया गया। हमारे निकटतम पड़ोसियों से लेकर देश की बड़ी-बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के साथ संबंध खराब हुए हैं।

 

राहुल गांधी अपने अध्यक्षीय भाषण में न केवल पार्टी की दशा-दिशा की रूपरेखा का संकेत देंगे, बल्कि वह आने वाली हर चुनौती का सामना करने का भरोसा दिलाते हुए एक बड़ी राजनीतिक लाइन खीचेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष का संबोधन करीब 4.30 बजे तक हो पाने की उम्मीद है।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement