• वो अपनी इज्जत बचाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं और हम यूपी का भाग्य बदलने को- पीएम मोदी
  • मंच से रोते हुए उतरे गायत्री प्रजापति, बोले - अखिलेश्‍ा के साथ मंच पर नहीं रहूूंगा
  • मोदी ने भी खेल दिया ट्रंप
  • सपा के हाथों पहली जंग हार गई बसपा
  • आइपीएल 10 के ऑक्शन में मोर्गन-नेगी बिके, गुप्टिल को फिर नहीं मिला खरीददार
  • प्रधानमंत्री के कथित सांप्रदायिक बयान की श‍िकायत चुनाव आयोग में करेगा कांग्रेस

Share On

Sports | 10-Jan-2017 11:12:27 AM
रणजी ट्रॉफी फ़ाइनल: दबाव में नहीं आएंगे

  • गुजरात के कप्तान पार्थिव पटेल बोले- खेल का मजा लेंगे
  • 66 साल बाद रणजी फाइनल में जगह मिली गुजरात को


 

 

दि राइजिंग न्‍यूज

10 जनवरी, अहमदाबाद।

रणजी ट्रॉफी टूर्नामेंट का पहला खिताब जीतने के इरादे से रिकॉर्ड 41 बार के चैम्पियन मुंबई के खिलाफ मंगलवार (10 जनवरी) से यहां फाइनल मुकाबला खेलने जा रहे गुजरात के कप्तान पार्थिव पटेल ने सोमवार को कहा कि उनकी टीम इस अहम मैच के दबाव में नहीं आयेगी और खेल का पूरा मजा लेगी।

अभ्यास सत्र के दौरान होलकर स्टेडियम पर पसीना बहाने के बाद पटेल ने संवाददाताओं से कहा, हमारी टीम इस रणजी सत्र में बढ़िया प्रदर्शन के बूते फाइनल में पहुंची है। हमने फैसला किया है कि हम खिताबी मुकाबले के दबाव में नहीं आयेंगे और इसे एक सामान्य मैच की तरह खेलकर क्रिकेट का पूरा मजा लेंगे। गुजरात की टीम 66 साल बाद रणजी फाइनल में जगह बनायी है लेकिन उनकी टीम मुंबई का सामना करने के लिये पूरी तरह से तैयार है जो रिकॉर्ड 46वीं बार खिताबी मुकाबले में पहुंची है।

पार्थिव ने कहा, फाइनल मैच से पहले हमने अच्छा अभ्यास किया है। हम इस मुकाबले के नतीजे को लेकर तनावमुक्त हैं। यह मैच में हमारे नये खिलाड़ियों के लिये पूरा मौका है कि वे बेहतरीन प्रदर्शन करें और अपने खेल का स्तर बढ़ाएं।

होलकर स्टेडियम के पिच के बारे में पूछे जाने पर पटेल ने कहा कि वह मंगलवार को पिच की स्थिति देखकर मैच के लिये अपनी टीम की रणनीति तय करेंगे। उधर, मुंबई टीम के कप्तान आदित्य तारे ने अपनी टीम की स्थिति मजबूत करार देकर गुजरात पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनाने की कोशिश की। उन्होंने कहा, फाइनल मुकाबले से पहले हमारी टीम अच्छे फॉर्म में है। हमारी स्थिति मजबूत है।

होलकर स्टेडियम के तटस्थ मैदान पर रणजी फाइनल खेले जाने से जुड़े सवाल पर तारे ने आत्मविश्वास भरे लहजे में कहा, अब हमें तटस्थ मैदानों पर खेलने की आदत पड़ चुकी है। मुम्बई के कप्तान ने कहा कि होलकर स्टेडियम की पिच अच्छी है और फाइनल मुकाबले के अनुकूल दिखायी दे रही है।

रणजी सेमीफाइनल में 17 वर्षीय बल्लेबाज पृथ्वी शॉ को मौका देना मुंबई के लिये काफी फायदेमंद रहा और उन्होंने प्रथम श्रेणी में पदार्पण करते हुए दूसरी पारी में 175 गेंद में 120 रन बनाकर टीम को जीत दिलायी थी। उनकी इस पारी की बदौलत मुंबई की टीम पांचवें और अंतिम दिन 251 रन के लक्ष्य को हासिल करने में सफल रही थी।

इस किशोर बल्लेबाज की तारीफ करते हुए तारे ने कहा, इतनी कम उम्र में मुंबई की रणजी टीम में आने का श्रेय शॉ के बल्लेबाजी तेवरों को जाता है। उन्होंने (शॉ ने) अपने पदार्पण मैच से पहले कहा था कि वह अपनी बल्लेबाजी से मुंबई को एक बार फिर रणजी चैम्पियन बनाना चाहते हैं।

 

Share On

 

 



 

 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter


   Photo Gallery   (Show All)
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें