• वो अपनी इज्जत बचाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं और हम यूपी का भाग्य बदलने को- पीएम मोदी
  • मंच से रोते हुए उतरे गायत्री प्रजापति, बोले - अखिलेश्‍ा के साथ मंच पर नहीं रहूूंगा
  • मोदी ने भी खेल दिया ट्रंप
  • सपा के हाथों पहली जंग हार गई बसपा
  • आइपीएल 10 के ऑक्शन में मोर्गन-नेगी बिके, गुप्टिल को फिर नहीं मिला खरीददार
  • प्रधानमंत्री के कथित सांप्रदायिक बयान की श‍िकायत चुनाव आयोग में करेगा कांग्रेस

Share On

Guest Column | 20-May-2016 02:28:20 PM
धर्म हैं, पथ हैं, जीवन-दर्शन हैं कलाम

 

 कलाम व्यक्ति नहींविचार हैं। धर्म होता है कलाम। नीति का नाम है कलाम। जीवन-दर्शन का प्रतीक होता है कलाम। जिजीविषा में जो गूदा होता हैवही कलाम कहलाता है। जो हम सब में मौजूद होते हैं। हम खुद में कलाम को खोजें। उन्हें पुष्पित-पल्वित करें, और कोशिश करें कि आने वाली पीढियों में उगने वाले कलामों को खाद-पानी मिलता ही रहे।

 अपने जीवन काल में कलाम छात्रों के बीच ही घिरे रहना पसंद करते थे। किसी संस्‍था का उद्घाटन समारोह का बुलावा भले ही न स्‍वीकारें,  विद्यार्थियों के पुकारने पर बड़े चाव से चले जाते थे। लेक्‍चरसेमिनार,दीक्षांत में मंच संभालना उनको पसंद था।  कारण वही, कि प्रिय बच्‍चों के बीच में जाकर कहे गए अनेक शब्‍दों में अगर दो शब्‍द भी आत्‍मसात कर लें तो हर गली, हर मुहल्‍ले में एक कलाम उठ खड़ा होगा। ऐसे थे हमारे कलाम। लोभ, राजनीति, आरोप-प्रत्‍यारोप से परे, जिन्‍होंने एक सफल भारत का सपना देखा था। ऐसी विभूति की मत्‍यु अगर छात्रों के बीच ही हुई तो मेरी समझ में जैसे उनकी आखिरी ख्‍वाहिश पूरी हो गई। 83 साल के नवयुवक थे कलाम, बुजुर्ग तो बिलकुल भी नहीं थे, और सबसे बड़ी बात कि इतने भले चंगे थे कि चलने के लिए किसी की सहायता भी नहीं लेनी पड़ी। उन्‍होंने तो अपने जीवन में सारे काम कर लिए लेकिन हमारे लिए तो उनका जाना जैसे देश का विधवा हो जाना। कहने की जरूरत नहीं कि भारत के लिए यह बहुत बड़ी क्षति है।

 खैर, मैं उन खुशकिस्‍मतों में से एक हूं जिसे उनसे मिलने का सौभाग्‍य एक नहीं बल्कि दो-दो बार प्राप्‍त हो चुका है। एक पुस्‍तक मेले के उद्घाटन पर और दूसरा साहित्यिक मेले में। अभी पिछले ही साल की बात है। एक लिटरेचर फेस्टिवल में उनका लखनऊ आना हुआ था। इंदिरागांधी प्रतिष्‍ठान में खचाखच भीड़ थी, करीब पांच स्‍कूल के बच्‍चे वहां उपस्थित थे। मंच पर आते ही कलाम साहब ने मीठी सी मुस्‍कान के साथ कहा, कि कई दिनों से आराम करने की फुर्सत नहीं मिली, आज सुबह तड़के ही निकलना पड़ा। यहां-वहां के काम निपटाने के बाद सीधे लखनऊ रवाना हो गया। लेकिन बच्‍चों को देखते ही मैं तरोताजा होजाता हूं। सारी थकान जाने कहां चली जाती है।

 ऐसा केवल कलाम साहब ही कह सकते थे, उनकी तो पूरी जिंदगी ही बच्‍चों को समर्पित थी। वह जहां से उठे थेजीवन भर उसी धरती पर ही टिके रहे। चमक-धमक उनपर कभी हावी नहीं होने पाई। कार्यकाल पूरा होने पर राष्‍ट्रपति भवन से केवल अपने कपड़े लेकर ही निकले थे। पूछने पर बताया कि यह शील्‍ड और प्रतीकचिह्न तो देश के राष्‍ट्रपति को मिला था, मुझे नहीं।

 मेरे पिता जी बताते हैं कि बात सन 2005 की है। पिताजी दैनिक हिनदुस्‍तान संस्‍करण में कार्यरत था।वाराणसी हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय का वार्षिेकोत्‍सव प्रारम्‍भ शुरू हो चुका था। सैकड़ों शिक्षकों की लयबद्ध कतार-लकीर की तरह धीरे-धीरे आगे बढ रहे थे। वह इसके महान आयोजन के क्षण-क्षण को देख-सहेट करने में तत्‍पर थे।

 सब की निगाहें केवल मुख्य अतिथि को ही खोज रही थीं। अचानक सीढियों पर चढ़ते कलाम दिख गये।जबर्दस्‍त शोर का बगुला सा उठा।

पदक वितरित करनेका वक्‍त आ गया। पहली पाली में सर्वश्रेष्‍ठ तीन शिक्षार्थियों को मंच पर बुलाया गया। इनमें पहला नाम था एक छात्रा का। कलाम ने उसे उसकी श्रेष्‍ठता का प्रमाण-पत्र और पदक थमाना चाहातो अचानक एक गजब हादसा-सा हो गया। इसके पहले किकोई कुछ समझ पायेवह बच्‍ची लपकी और सीधे कलाम के गले लग गयी।

प्रगाढ आलिंगन।

पूरा पाण्‍डाल स्‍तब्‍ध।

उपस्थित सारे लोग सकपका गये।

लेकिन कलाम बेहद शांत थे। वह बच्‍ची कलाम को चूम रही थी,  और कलाम सहज थे।

बाद में उस बच्‍ची का ज्‍वार उतरा। सफलता की दमक उसके चेहरे पर साफ चमक रही थी।

मगर कलाम कुछ नहीं बोले। नि:शब्‍द।

वह बच्‍ची ही बोली:- "दरअसल मैं अपनी आंटी के लिए राष्‍ट्रपति महोदय को चूमना चाहती थी।"

और इसीलिए अपने आवेगों को रोक नहीं पायी।

                                                                            -साशा सौवीर 

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 

 

 

 



 

 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter

 


   Photo Gallery   (Show All)
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें