• गिरफ्तारी देने पत्नी के साथ एसएसपी आवास पहुंचे आइपीएस अमिताभ ठाकुर
  • बलिया में बोलीं मायावती- सीएम उम्मीदवार घोषित करने में नाकाम रही BJP
  • रमजान से ज्‍यादा बिजली दिवाली पर दी - अखिलेश
  • गुजरात के राजकोट से दो ISIS आतंकियों को एटीएस ने किया गिरफ्तार, दोनों आतंकी सगे भाई
  • सिलीगुड़ी: सिवोक बाजार से 1 करोड़ का सोना जब्त, 2 लोग गिरफ्तार

Share On

Spiritual | 5-Jan-2017 03:05:51 PM
जानिए पंजाबियों का बिहार कनेक्‍शन


 

 


दि राइजिंग न्‍यूज

सिखों के 10वें गुरु थे गुरुगोविंद सिंह। उनका जन्म पटना साहिब में हुआ था। उन्होंने ही साल 1699 में खालसा पंथ की स्थापना की थी। इनकी माता का नाम गुजरी और पिता का नाम गुरु तेग बहादुर था। गुरुगोविंद सिंह के जन्म तख़्त श्री पटना हरिमंदर साहिब में हुआ था। गुरु गोविंद सिंह ने लक्ष्यों के प्रति खुद को पुन: समर्पित करने और मानवता, धर्मनिरपेक्षता के मूल्यों पर आधारित एक सामंजस्यपूर्ण समाज का निमार्ण किया था।

गुरु गोबिंद सिंह जी के नेतृत्व में सिख समुदाय ने काफी कुछ सीखा था। उन्होंने सन् 1699 में बैसाखी के दिन खालसा का निर्माण किया। गुरु गोविंद सिंह को संस्कृत, उर्दू, हिंदी, ब्रज, गुरमुखी, पारसी और पंजाबी जैसी भाषाएं भी आती थीं। गुरु गोविंद सिंह एक संत-सिपाही और सत्य, धर्म और विश्व बंधुत्व के प्रतीक थे।

गुरु गोबिंद सिंह एक महान योद्धा थे और उन्होंने सामाजिक अन्याय और उस समय के निरंकुश शासकों के खिलाफ धर्मयुद्ध छेड़ा था। मानवीय और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों की रक्षा के लिए गुरु गोविंद सिंह ने अपने चार बेटों, पिता और माता की कुबार्नी दी थी जो मानव जाति के इतिहास में दुर्लभ है। गुरु गोविंद सिंह को संस्कृत, उर्दू, हिंदी, ब्रज, गुरमुखी, पारसी और पंजाबी जैसी भाषाएं भी आती थीं।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 

 

 

 



 

 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter

 


   Photo Gallery   (Show All)
राज भवन, लखनऊ में आयोजित पुष्प प्रदर्शनी में फूलों से बने गणेश भगवान । फोटो - कुलदीप सिंह
राज भवन, लखनऊ में आयोजित पुष्प प्रदर्शनी में फूलों से बने गणेश भगवान । फोटो - कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें