• वो अपनी इज्जत बचाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं और हम यूपी का भाग्य बदलने को- पीएम मोदी
  • मंच से रोते हुए उतरे गायत्री प्रजापति, बोले - अखिलेश्‍ा के साथ मंच पर नहीं रहूूंगा
  • मोदी ने भी खेल दिया ट्रंप
  • सपा के हाथों पहली जंग हार गई बसपा
  • आइपीएल 10 के ऑक्शन में मोर्गन-नेगी बिके, गुप्टिल को फिर नहीं मिला खरीददार
  • प्रधानमंत्री के कथित सांप्रदायिक बयान की श‍िकायत चुनाव आयोग में करेगा कांग्रेस

Share On

UP | 28-Dec-2016 11:50:17 AM
रेल हादसों ने यूपी को दिए जख्‍म


 

 

दि राइजिंग न्यूज 

28 दिसंबर, यूपी।

रेल हादसों ने उत्‍तर प्रदेश को कई बार जख्‍म दिए हैं। यूपी में एक बार फिर कानपुर देहात के निकट रुरा स्टेशन के पास बुधवार सुबह 5.45 बजे अजमेर-सियालदाह एक्सप्रेस (12988) के 15 डिब्बे पटरी से उतर गए। हादसे में दो की मौत और 60 से ज्यादा यात्री घायल बताए जा रहे हैं। इस स्टेशन से 30 किलोमीटर पहले पुखरायां स्टेशन पर गत 19 नवंबर को एक बड़ा रेल हादसा हुआ था। हादसे में 152 लोगों की मौत हो गई थी।

पिछले 15 साल में प्रदेश भर में एक दर्जन से अधिक बड़े हादसे हुए हैं। इन हादसों में 417 लोगों को जाने गंवानी पड़ीं। इसके बावजूद रेलवे प्रशासन ने हादसे रोकने को कोई कड़ा कदम नहीं उठाया है। नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों के मुताबिक रेल हादसों में प्रदेश दूसरे स्थान पर है। वहीं मध्य प्रदेश तीसरे नंबर पर है।

महाराष्ट्र में सबसे अधिक हादसे होने की वजह से वह शीर्ष पर है। जानकारी के मुताबिक इन हादसों में करीब 50 फीसदी हादसे ट्रेन डीरेल होने की वजह से हुई है। जिसमें इमरजेंसी ब्रेक, पटरियों का चिटकना जैसे कारण रहे हैं। वहीं मानव रहित क्रॉसिंग पर भी सैकड़ों जानें गईं। क्रासिंग पर भी सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया।

आइये डालते है एक नज़र अब तक यूपी में हुए बड़े रेल हादसो के बारें में

  1. 28 दिसंबर 2016 सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस के 15 डिब्बे रूरा के पास पटरी से उतर गए। हादसे में दो की मौत हो गई जबकि 60 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं।
  2. 21 नवंबर 2016 - इंदौर से पटना जा रही एक्सप्रेस ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। इस हादसे में 142 लोगों की मौत और 180 से ज्यादा घायल हो गए थे।
  3. 25 जुलाई 2016 - वाराणसी के भदोही के पास रेलवे क्रॉसिंग पर एक स्कूल वैन को ट्रेन ने टक्कर में 10 बच्चों ने अपनी जान गंवाई।
  4. 20 मार्च 2015 -  देहरादून-वाराणसी एक्सप्रेस रायबरेली के बछरावां के पास पटरी से उतरने से करीब 32 लोगों की हुई थी मौत।
  5. 1 अक्टूबर 2014 - लखनऊ-बरौनी एक्सप्रेस और कृषक एक्सप्रेस आपस में गोरखपुर में नंदानगर क्रॉसिंग भिड़ने से 14 की हुई थी मौत।
  6. 31 मई 2012 -  हावड़ा से देहरादून जा रही दून एक्सप्रेस के छह पहिए पटरी से उतर गए। तीन लोगों की जान चली गई।
  7. 20 मार्च 2012 - लोगों से भरी हुए के एक गाड़ी हाथरस में एक रेलवे क्रॉसिंग पार करते एक ट्रेन के चपेट में आई थी, 15 लोग मरे थे।
  8. 10 जुलाई 2011 - फतेहपुर के पास कालका एक्सप्रेस डीरेल हुई थी। हादसे में 69 जानें गईं थी।
  9. 7 जुलाई 2011 -  एक यात्री बस एटा में रेलवे क्रॉसिंग पार करने के दौरान ट्रेन से टकरा गई, जिसमें 8 लोगों की मौत हो गई।
  10. 16 जनवरी 2010 - फिरोजाबाद में टूंडला के पास कालिंदी एक्सप्रेस ने श्रम शक्ति को टक्कर मार दी थी, आधा दर्जन मौतें हुईं थीं।
  11. 1 नवंबर 2009 -  गोरखपुर से अयोध्या जा रही पैसेंजर ने चकरसूलपुर गांव के पास क्रॉसिंग पर ट्रक को टक्कर मारी थी, 14 लोगों मरे थे।
  12. 21 अक्टूबर 2009 - गोवा एक्सप्रेस के इंजन ने मेवाड़ एक्सप्रेस के अंतिम बोगी को मथुरा के पास पीछे से ठोका था, 22 लोग मारे गए थे।
  13. 12 मई 2002 - नई दिल्ली से पटना जाते वक्त श्रमजीवी एक्सप्रेस जौनपुर में बेपटरी हो गई थी। घटना में 12 लोगों की मौतें हुई थी।
  14. 4 जून 2002 -  कासगंज एक्सप्रेस में एक रेलवे क्रॉसिंग पर एक बस को टक्कर मार दी थी। हादसे में 34 लोगों की जानें गईं थी।
  15. 31 मई 2001 - यूपी में केएक रेलवे क्रॉसिंग पर एक बस को ट्रेन ने टक्कर मार देने से 31 लोगों की मौत हो गई थी।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 

 

 

 



 

 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter

 


   Photo Gallery   (Show All)
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें