• वो अपनी इज्जत बचाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं और हम यूपी का भाग्य बदलने को- पीएम मोदी
  • मंच से रोते हुए उतरे गायत्री प्रजापति, बोले - अखिलेश्‍ा के साथ मंच पर नहीं रहूूंगा
  • मोदी ने भी खेल दिया ट्रंप
  • सपा के हाथों पहली जंग हार गई बसपा
  • आइपीएल 10 के ऑक्शन में मोर्गन-नेगी बिके, गुप्टिल को फिर नहीं मिला खरीददार
  • प्रधानमंत्री के कथित सांप्रदायिक बयान की श‍िकायत चुनाव आयोग में करेगा कांग्रेस

Share On

Varanasi | 20-Nov-2016 04:39:06 PM
... और पीएम ने भेज दिए बीस हजार रुपये

  • शादी को लेकर परेशान थी वाराणसी की  लड़की
  • लिखा था पीएम मोदी को खतमिले 20,000 रुपए


 

 


दि राइजिंग न्‍यूज

20 नवंबर, वाराणसी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने से परेशान एक परिवार की मदद की है। वह परिवार पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रहता है। जितेंद्र साहू नाम के एक शख्स की बेटी की शादी होनी है। वह फिलहाल बेरोजगार है लेकिन उसने कुछ पैसे जोड़ रखे थे जो वह शादी में लगाना चाहता था लेकिन नोटबंदी ने उसका वह विकल्प भी बंद कर दिया। इसपर जितेंद्र की बेटी ज्योति साहू ने पीएम मोदी को एक पत्र लिखा। उस पत्र में ज्योति ने अपने परिवार की सारी परेशानियों का जिक्र किया था। ज्योति ने 9 नवंबर यानी नोटबंदी के अगले दिन ही पीएम मोदी को पत्र भेज दिया था। लेकिन 9 दिन बाद जो हुआ उसने ज्योति के साथ-साथ उसके परिवार के बाकी लोगों को भी चौंका दिया। जिले का एक अधिकारी उनके घर पर आया और उसने जितेंद्र साहू को 20 हजार रुपए नकद थमा दिए। जिला अधिकारी ने जानकारी दी कि वह पैसा पीएम मोदी ने ज्योति का पत्र पढ़ने के बाद भेजा है।

 

गौरतलब है कि पीएम मोदी ने 8 नवंबर की रात को नोटबंदी का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि 30 दिसंबर के बाद से 500 और 1000 रुपए के नोट चलने बंद हो जाएंगे। तब से ही बैंक और एटीएम के बाहर की लाइन खत्म होने का नाम नहीं ले रही। हालांकि, सरकार की तरफ से वक्त-वक्त पर नीतियों में जरूरी बदलाव किए जा रहे हैं लेकिन उससे कोई खास फायदा होता दिख नहीं रहा।

 

नोटबंदी पर विपक्ष लगातार मोदी सरकार को घेरने की कोशिश में लगा है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने 55 व्यक्तियों की एक सूची जारी की जिन्होंने उच्च मूल्य के नोट चलन से बाहर होने के मद्देनजर बैंकों एवं एटीएम के बाहर पंक्ति में खड़े रहने के दौरान अपनी जान गंवाई। रणदीप सुरजेवाला ने उन सबके परिवारों को मुआवजे के साथ ही उनकी मौत की जांच की भी मांग की। तानाशाह प्रधानमंत्री के कठोर निर्णय के चलते 55 मौतें हुईं। इसके लिए कौन जिम्मेदार है? प्रधानमंत्री को उन व्यक्तियों के परिवारों से माफी मांगनी चाहिए जिन्होंने अपनी जान गंवाई और उन्हें देश से भी माफी मांगनी चाहिए। यह उनके असंगत निर्णय के चलते हुआ।


फेसबुक पर हमसे जुड़ें

क्लिक करें ट्विटर पे फॉलो करने के लिए

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 

 

 

 



 

 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter

 


   Photo Gallery   (Show All)
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई
बली प्रेक्षाग्रह में कथक संध्‍या कार्यक्रम में चतुरंग की प्रस्‍तुित देती कलाकार । फोटो - गौरव बाजपेई

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें