प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

द राइजिंग न्यूज़ ,नोएडा : जैसे-जैसे तीसरी लहर की आशंका का समय नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की लापरवाही बढ़ती जा रही है। ताजा मामला स्वास्थ्य विभाग की कोल्ड चेन से को-वैक्सीन की 100 डोज गायब होने का है। रहस्यमयी ढंग से वैक्सीन गायब होने की घटना से स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया है। फिलहाल अफसर आंकड़े में कमी बता सरकारी कागज व टीकाकरण की फाइल खंगाल रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि जुलाई से कोरोना टीकाकरण की किल्लत हैं। किल्लत के चलते पूर्व में दो दिन टीकाकरण प्रभावित भी हो चुका है। शासन से प्रतिदिन टीके मिलते है। टीके की उपलब्धता के आधार पर ही कोविशील्ड व को-वैक्सीन के केंद्रों की संख्या निर्धारित की जाती है। अधिकांश केंद्र पर लोगों को कोविशील्ड ही लगाई जा रही है, जबकि को-वैक्सीन पांच-छह केंद्रों पर ही लग रही है। 16 जनवरी से जिले में अबतक 18.99 लाख लोगों को कोविशील्ड व मात्र 2.16 लाख को को-वैक्सीन की डोज लगी है।


बीते दिन शासन से प्राप्त को-वैक्सीन की खेप में 100 डोज कम मिल रही है। रिकार्ड और कोल्ड चेन में मौजूद डोज में बड़ा अंतर मिला है। शनिवार को डोज का पता न लगने के बाद स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने कोल्ड चेन के कर्मचारियों को तलब कर पूरा रिकार्ड मांगा। कई कर्मचारियों को बुलाकर पूछताछ भी की गई। खास बात यह है कि कोल्ड चेन के बाहर 24 घंटे पुलिस का पहरा होता है, ऐसे में डोज गायब होना विभागीय अधिकारी-कर्मचारी की कार्यशैली पर बड़ा सवाल खड़ा कर रहा है।

कोरोना टीकाकरण प्रभारी डा. नीरज त्यागी का कहना है कि कोल्ड चेन के बाहर पुलिस का पहरा होता है, ऐसे में डोज चोरी होना असंभव है। ऐसा भी हो सकता है कि प्राप्त डोज और रिकार्ड के आंकड़ों में गड़बड़ी हो गई हो, मामले की पड़ताल कराई जा रही है।

Latest News

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

हमारे टेलीग्राम चैनल को तुरंत सब्सक्राइब  Subscribe